संपर्क करें | स्कूल चलें अभियान, मध्यप्रदेश

कार्यक्रम का विवरण

कार्यक्रम की विषयवस्तु

‘मिल बाँचे मध्यप्रदेश कार्यक्रम’ अन्तर्गत शाला विकास एवं गुणवत्ता युक्त शिक्षा हेतु समुदाय की सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित करना है।

कार्यक्रम में सहभागिता हेतु वॉलंटियर

‘मिल-बाँचे मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम में वॉलंटियर माननीय जनप्रतिनिधिगण, स्कूल चलें हम अभियान के तहत पंजीकृत प्रेरक, कार्यरत/सेवानिवृत्त शासकीय अधिकारी/सेवक, निजी क्षेत्र में कार्यरत पेशेवर व्यक्ति, शालाओं के पूर्व छात्रों को उस शासकीय शाला में जिसमें वह पढ़े हैं या अन्य शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला में जाकर कार्यक्रम में सम्मिलित होने हेतु अनुरोध किया जाना है। अकादमिक सत्र 2018-19 में आयोजित होने वालें ‘मिल-बाँचे मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम के प्रथम चरण के आयोजन में सम्मिलित होने वाले वॉलंटियर की इच्छा अनुसार निम्न विकल्प उपलब्ध रहेगें-

‘मिल-बाँचे मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम के दिन शाला में मात्र एक बार उपस्थिति -

‘मिल-बाँचे मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम के अंतर्गत एक बार उपस्थित होने वाले वॉलंटियर द्वारा हिन्दी पाठ्यपुस्तक अथवा शाला पुस्तकालय में उपलब्ध रूचिकर पुस्तकों में से किसी पुस्तक के एक अंश्/पाठ का वाचन किया जाएगा। वाचन के उपरान्त कक्षा में उपस्थित बच्चों से रूचिकर प्रश्न, सामुहिक परिचर्चा, संवाद एवं पढ़ने की कला से परिचित कराया जाएगा।

‘मिल-बाँचे मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम अंतर्गत शाला में एक से अधिक बार उपस्थिति -

उपर्युक्त गतिविधियों के साथ-साथ एक से अधिक बार शाला में उपस्थित होने वाले वॉलंटियर साप्ताहिक बालसभा के दौरान सहशैक्षिक गतिविधियों का संचालन कर सकते हैं। कई वॉलंटियर सांस्कृतिक, साहित्यक, खेल-कूद, लोक कला अथवा जीवन कौशल संबंधी पृष्ठ भूमि से जुडे हो सकते हैं अतः ऐसे वॉलंटियर बालसभा में उक्त गतिविधियों का संचालन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त कैरियर गाइडेंस, कहानी एवं लेख पढ़ने में, बच्चों को रचनात्मक लेखन में, चित्रकारी में, सार्वजनिक बोल-चाल का कौशल बढाने में, नृत्य, संगीत आदि में सहयोग प्रदान कर सकते हैं। >